दूसरे चरण में तेजस्वी-तेजप्रताप की ताकत की होगी परीक्षा, चंद्रिका-पुष्पम पर भी टिकी है निगाहें

Edited By Nitika, Updated: 02 Nov, 2020 04:53 PM

the strength of tejashwi tej pratap will be tested in the second phase

बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के तहत 3 नवंबर को 94 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होना है। दूसरे चरण में एनडीए और महागठबंधन से कई बड़े चेहरे चुनावी मैदान में किस्मत आजमा रहे हैं।

 

पटनाः बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के तहत 3 नवंबर को 94 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होना है। दूसरे चरण में एनडीए और महागठबंधन से कई बड़े चेहरे चुनावी मैदान में किस्मत आजमा रहे हैं। इस बार महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव राघोपुर से, उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव हसनपुर से, चंद्रिका राय जेडीयू के टिकट पर परसा से चुनावी मैदान में हैं। आइए जानते हैं दूसरे चरण की VIP सीट पर किस दिग्गज नेता की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है।
PunjabKesari
बिहार में दूसरे चरण के चुनाव में सबसे हॉट सीट वैशाली जिले की राघोपुर सीट है, क्योंकि यहां से महागठबंधन के सीएम कैंडिडेट तेजस्वी यादव चुनावी मैदान में उतरे हैं। उनका मुकाबला बीजेपी के अनुभवी नेता सतीश कुमार से है। 2015 के चुनाव में तेजस्वी यादव ने लालू का गढ़ कहे जाने वाली राघोपुर सीट से ही जीत दर्ज किया था। बीते चुनाव में बीजेपी के सतीश कुमार को तेजस्वी से हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस बार बदले सियासी समीकरण में 2015 के मुकाबले सतीश कुमार को जेडीयू का समर्थन हासिल है। बीजेपी के कैंडिडेट सतीश कुमार को कम आंकना एक बड़ी भूल हो सकती है, क्योंकि सतीश कुमार ने 2010 के चुनाव में राबड़ी देवी तक को हरा दिया था। वैसे भी राघोपुर सीट पर राजपूत वोटरों की भूमिका निर्णायक है, जो रघुवंश बाबू की उपेक्षा और तेजस्वी के बाबूसाहब को लेकर दिए बयान की वजह से आरजेडी के खिलाफ जा सकते हैं। वहीं लोजपा की ओर से मैदान में उतारे गए राकेश रौशन भी वोटों का गुणा गणित बिगाड़ रहे हैं।

दूसरे चरण के चुनाव में हसनपुर विधानसभा सीट भी काफी वीआईपी सीट मानी जा रही है। हसनपुर से इस बार तेज प्रताप यादव चुनाव लड़ रहे हैं। यहां तेज प्रताप यादव का मुकाबला जेडीयू के कैंडिडेट राजकुमार राय से है। अब ये देखना अहम होगा कि तेजप्रताप यादव को लेकर हसनपुर के वोटरों का क्या रूख रहेगा।

दूसरे चरण में बिहार की हॉट सीटों में सारण जिले का परसा विधानसभा सीट भी शामिल है। यहां से बदले पारिवारिक संबंधों की वजह से लालू प्रसाद यादव के समधि चंद्रिका राय चुनाव लड़ रहे हैं। जेडीयू की टिकट पर चंद्रिका राय परसा से चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं, आरजेडी ने चंद्रिका राय के खिलाफ छोटे लाल राय को चुनावी मैदान में उतारा है। परसा सीट चंद्रिका राय के पिता दारोगा राय का गढ़ माना जाता है। आजादी के बाद से परसा सीट पर ज्यादातर इसी राय परिवार का कब्जा रहा है। अब देखना ये होगा कि इस बार परसा की जनता किस उम्मीदवार पर भरोसा जताएगी।
PunjabKesari
पटना साहिब विधानसभा सीट से बीजेपी ने बिहार के पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव को अपना कैंडिडेट बनाया है। इस सीट से नंद किशोर यादव 6 बार चुनावी जीत दर्ज कर चुके हैं। इस बार नंद किशोर यादव का मुकाबला कांग्रेस के प्रवीण सिंह से है। प्रवीण कुमार भागलपुर के रहने वाले हैं और उन पर बाहरी कैंडिडेट होने का आरोप लग रहा है। वहीं आरएलएसपी ने जगदीप प्रसाद वर्मा तो जन अधिकार पार्टी ने यहां से महमूद कुरैशी को मैदान में उतारा है। पटना साहिब पर नंदकिशोर यादव के वर्चस्व को चुनौती देना किसी भी पार्टी के कैंडिडेट के लिए आसान नहीं है। यही वजह है कि आरजेडी ने ये सीट कांग्रेस के खाते में आसानी से दे दिया, क्योंकि आरजेडी के नेताओं को पता है कि नंदकिशोर यादव की पकड़ काफी मजबूत है।

बिहार विधानसभा के दूसरे चरण में नालंदा सीट पर सभी की नजरें टिकी हुई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गढ़ होने की वजह से नालंदा की सभी सीटों पर लोगों की नजरें टिकी हुई हैं। नालंदा को बिहार की सियासत में सबसे हॉट सीटों में से एक माना जाता है। इस बार इस सीट से एक बार फिर जेडीयू ने श्रवण कुमार को मैदान में उतारा है। श्रवण कुमार को नीतीश कुमार का बेहद करीबी नेता माना जाता है। श्रवण से मुकाबले के लिए कांग्रेस के गुंजन पटेल, एलजेपी के रामकेश्वर प्रसाद और आरएलएसपी के सोनू कुमार मैदान में हैं। इस बार श्रवण कुमार की सियासी साख की अग्नि परीक्षा होनी तय है।

बांकीपुर सीट को भी काफी हॉट माना जा रहा है क्योंकि इस बार बिहारी बाबू शत्रुघ्न सिन्हा के बेटे लव सिन्हा कांग्रेस के टिकट पर यहां से चुनावी मैदान में हैं। लव सिन्हा के खिलाफ बीजेपी के नितिन नवीन मैदान में हैं तो वहीं प्लुरल्स पार्टी की अध्यक्ष और सीएम उम्मीदवार पुष्पम प्रिया भी यहां से किस्मत आजमा रही हैं। इस लिहाज से बांकीपुर सीट पर होने वाले सियासी मुकाबले पर पूरे बिहार की नजर बनी हुई है।
PunjabKesari
बिहार के दूसरे चरण के चुनाव में गोपालगंज सीट पर बीजेपी ने अपने विधायक सुभाष सिंह को चुनावी अखाड़े में उतारा है। यहां उनके खिलाफ कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल गफूर के नाती आसिफ गफूर को टिकट दिया है। इसके अलावा लालू प्रसाद यादव के साले अनिरुद्ध प्रसाद उर्फ साधु यादव बसपा की टिकट पर चुनावी मैदान में हैं। ये देखना अहम होगा कि तीनों दिग्गजों में बाजी किसके हाथ लगेगी।

भागलपुर विधानसभा सीट पर इस बार मुख्य मुकाबला कांग्रेस के मौजूदा विधायक अजीत शर्मा और बीजेपी के रोहित पांडेय के बीच माना जा रहा है। वहीं कुछ महीने पहले बीजेपी को छोड़कर लोजपा में शामिल हुए राजेश वर्मा मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने में लगे हैं।

वहीं सिवान जिले की बड़हरिया विधानसभा सीट पर भी 3 नवंबर को मतदान होगा। एक बार फिर जेडीयू ने यहां से श्याम बहादुर सिंह चुनावी मैदान में हैं। बार डांसरों के साथ ठुमके लगाने की वजह से श्याम बहादूर सिंह सुर्खियों में बने रहते हैं। विधानसभा चुनाव में श्याम बहादूर सिंह का भी लिट्मस टेस्ट होना तय माना जा रहा है।

दूसरे चरण की इन हॉट सीटों से राज्य के सियासी भविष्य की दशा दिशा तय होगी। सबसे ज्यादा नजर तेजस्वी और तेजप्रताप के परफारमेंस पर होगी। वहीं चंद्रिका राय, नंदकिशोर यादव,पुष्पम प्रिया चौधरी और लव सिन्हा की सियासी साख पर भी जनता अपना राय देगी। अब 10 नवंबर को ही पता चलेगा कि शह और मात के सियासी खेल में कौन किसे मात देने में कामयाब रहेगा।
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!