झारखंड की ध्वस्त कानून व्यवस्था पर आत्मचिंतन करे हेमंत सरकार : दीपक प्रकाश

Edited By Diksha kanojia, Updated: 05 May, 2022 09:34 AM

hemant government should introspect on the broken law and order

प्रकाश ने कहा कि राज्य सरकार के मुखिया और बड़े बड़े अधिकारी आत्मचिंतन करें कि आखिर धनबाद का एक डॉक्टर किन परिस्थितियों में अपना घर द्वार छोड़कर पलायन को मजबूर हो गया। क्यों साहेबगंज के एक कांट्रेक्टर को राज्य के वरिष्ठ मंत्री से जान का खतरा है।

रांचीः भारतीय जनता पार्टी के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष एवम सांसद दीपक प्रकाश ने राज्य सरकार पर कड़ा हमला बोला। प्रकाश ने आज यहां कहा कि राज्य की विधिव्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है। राज्य में अपराधी बेलगाम हैं, आम आदमी भयभीत और मजबूर है। उन्होंने कहा कि ऐसा लग रहा जैसे राज्य में कानून का शासन नही बल्कि जंगलराज है।

प्रकाश ने कहा कि राज्य सरकार के मुखिया और बड़े बड़े अधिकारी आत्मचिंतन करें कि आखिर धनबाद का एक डॉक्टर किन परिस्थितियों में अपना घर द्वार छोड़कर पलायन को मजबूर हो गया। क्यों साहेबगंज के एक कांट्रेक्टर को राज्य के वरिष्ठ मंत्री से जान का खतरा है। क्यों उन्हें सुरक्षा के लिये न्यायालय की शरण मे जाने की मजबूरी है। प्रकाश ने कहा कि पुलिस प्रशासन को कानून का राज चले इसका प्रयास करना चाहिये।पंचायत चुनाव में पिछड़ी जाति के आरक्षण से संबंधित याचिका पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का सम्मान करते हुए प्रकाश ने कहा कि पिछडे समाज को आरक्षण देने में राज्य सरकार विफल रही।

राज्य सरकार की नाकामियों के कारण राज्य का पिछड़ा वर्ग पंचायत चुनाव में आरक्षण से वंचित हो गया। उन्होंने कहा कि न्यायालय के निर्णय के आलोक में हेमंत सरकार चाहती तो आरक्षण देने की पहल कर सकती थी लेकिन राज्य सरकार की नीति और नियत दोनों साफ नही है। इस संबंध में राज्य सरकार ने कोई रुचि नही दिखाई। विनय वार्ता नननन

Related Story

Trending Topics

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!