पटना में आयोजित सेमिनार में Success Guru एके मिश्रा बोले- दृढ़ इच्छाशक्ति और उचित मागदर्शन से कोई भी लक्ष्य संभव

Edited By Ramanjot, Updated: 23 Jul, 2022 01:37 PM

success guru ak mishra said in the seminar organized in patna

सेमिनार को संबोधित करते हुए सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने कहा कि सिविल सर्विस की तैयारी मुश्किल नहीं है कोई भी व्यक्ति जो निम्नतम अर्हता रखता है वो एक उचित मार्गदर्शन में निंदिष्ट मापदंडों का पालन करके इस परीक्षा में उतीर्ण कर सकता है इसके लिए लक्ष्य...

पटनाः पटना के रविन्द्र भवन में सिविल सेवा के प्रतिभागियों के लिए एके मिश्रा आर्ट ऑफ सक्सेस सेमिनार का आयोजन किया गया। इस सेमिनार को सुनने पटना के हजारों छात्रों ने भाग लिया। सेमिनार में यूपीएससी 2021 परीक्षा के चयनित विद्यार्थियों ने भी अपनी सफलता में पाए अनुभवों को छात्रों के संघ साझा किया।

सेमिनार को संबोधित करते हुए सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने कहा कि सिविल सर्विस की तैयारी मुश्किल नहीं है कोई भी व्यक्ति जो निम्नतम अर्हता रखता है वो एक उचित मार्गदर्शन में निंदिष्ट मापदंडों का पालन करके इस परीक्षा में उतीर्ण कर सकता है इसके लिए लक्ष्य बिल्कुल स्पष्ट होना चाहिए, विद्यार्थी को यह पता होना चाहिए कि उसे क्या बनना है, कब बनना है, क्यू बनना है और कैसे बनना है अपितू विद्यार्थियों का गोल बिल्कुल क्लियर होना चाहिए। जबतक गोल क्लियर नहीं होगा तब तक अपेक्षित मोटिवेशन का अभाव देखने को मिलता है और इस परीक्षा में सही मार्गदर्शन के साथ-साथ मोटिवेटेड रहना आवश्यक है।

वहीं चाणक्य आईएसएस एकेडमी के रीजनल हेड डॉ कृष्णा सिंह ने कहा कि चाणक्य "आईएएस एकंडमी की स्थापना सक्सेस गुरू एके मिश्रा ने सन् 1993 में दिल्ली में की थी आज इस संस्था के लगभग 22 सेंटर हैं। 29 वर्षों में इस संस्थान ने देश को लगभग 5000 IAS, IPS तथा अन्य राज्य स्तरीय सिविल सेवाओं में हजारों अन्य चयनित विद्यार्थी इस देश को दिया है। डॉ. कृष्णा सिंह ने आगे बताया कि चाणक्य आईएएस एकेडमी आज देश की सर्व प्रतिष्ठित संस्था है जो विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करके न केवल उन्हें सिविल सेवा में चयनित कराने में सहायता प्रदान करती है बल्कि भविष्य के नौकरशाहों की अपने शिक्षण मार्गदर्शन से व्यापक पैमाने पर नैतिक एवं प्रशासनिक कौशल भी प्रदान करती है जिससे वे अपने कार्यों को सुगमता से कर सकें। चाणक्य आईएएस एकेडमी वैसे दूर-दराज के छात्र जिनकी पहुंच सीधे तौर पर एकेडमी तक नहीं होती है उनके लिए दूरस्थ शिक्षा का भी प्रबंध करती है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!