बिहार विधानसभा परिसर में मिली शराब की खाली बोतलें, विपक्षी सदस्यों ने सदन में किया हंगामा

Edited By Nitika, Updated: 01 Dec, 2021 10:34 AM

empty liquor bottles found in bihar assembly premises

बिहार में मंगलवार को विधानमंडल परिसर में शराब की खाली बोतलें मिलने के मामले को प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव द्वारा सदन में उठाए जाने तथा राजद सदस्यों के हंगामे के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस पर सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

 

पटनाः बिहार में मंगलवार को विधानमंडल परिसर में शराब की खाली बोतलें मिलने के मामले को प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव द्वारा सदन में उठाए जाने तथा राजद सदस्यों के हंगामे के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस पर सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

बिहार विधानसभा परिसर में दोपहिया वाहनों के लिए पार्किंग स्थल के रूप में चिह्नित क्षेत्र में एक पेड़ के नीचे शराब की कुछ खाली बोतलें मिलने पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने स्थल का निरीक्षण किया और नाराजगी जताते हुए प्रदेश में पूर्णशराबबंदी के बावजूद शराब की उपलब्धता और उसके सेवन को रोक पाने में सरकार पर विफल रहने का आरोप लगाया और मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग की। भोजनावकाश के बाद विधानसभा की कार्यवाही फिर से शुरू होने पर तेजस्वी ने इस मामले को सदन उठाया और मुख्यमंत्री से इस पर सरकार के रुख को स्पष्ट करने को कहा।

राजद सदस्यों के हंगामे के बीच मुख्यमंत्री ने अपनी सीट से खड़े होकर इस मामले की जांच की अनुमति दिए जाने का सदन अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा से अनुरोध करते हुए कहा कि यह बहुत ही गंभीर मामला है और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। नीतीश ने बाद में अपने कक्ष में प्रदेश के मुख्यसचिव त्रिपुरारी शरण और पुलिस महानिदेशक एस के सिंघल को बुलाकर बिहार विधानसभा के सचिव के साथ मिलकर इसपर विचार विमर्श कर आगे की कार्रवाई सुनिश्चित करने को निर्देश दिए। इसके बाद मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक मौके पर पहुंचे, जांच के लिए बोतलें एकत्र कीं। शरण ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘सदन के काम-काज के घंटों से परे यहां सुरक्षा व्यवस्था उतनी गहन नहीं होती है। ऐसा लगता है कि किसी ने एक विशिष्ट मकसद के तहत इसका फायदा उठाया है, जिसका पता लगाने की जरूरत है। इस घटना को सुरक्षा में खामी कहना उचित नहीं है।''

सिंघल ने कहा, ‘‘दुर्भाग्य से घटनास्थल के पास कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा है, जिससे यह पता चल सके कि इन बोतलों को अंदर कौन लाया था। बहरहाल हमने इन्हें फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। आबकारी विभाग के विशेषज्ञों को भी बोतलों में मौजूद सामग्री का पता लगाने के लिए लगाया गया है।'' हालांकि सत्तारूढ़ दल के एक से अधिक नेताओं ने संदेह व्यक्त किया कि सरकार को बदनाम करने के लिए राजद के नेताओं ने बोतलों को उक्त स्थल पर रखा है। भाजपा विधायक एवं पर्यावरण और वानिकी राज्य मंत्री नीरज कुमार बबलू ने कहा, ‘‘दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। लेकिन मुझे संदेह है कि इस शरारत के पीछे राजद का हाथ है''। बिहार विधान परिषद में भाजपा सदस्य नवल किशोर यादव ने भी इसी तरह के विचार व्यक्त करते हुए कहा, ‘‘मौके पर कोई भी शराब पीते नहीं पाया गया। कुछ पुरानी बोतलें वहां फेंक दी गई हैं। यह राजद द्वारा सरकार को बदनाम करने के लिए किया गया होगा।''

तेजस्वी ने हाल में जहरीली शराब से 40 लोगों की मौत के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के शराबबंदी की समीक्षा को लेकर मैराथन बैठक करने तथा सोमवार को बिहार विधानसभा के केंद्रीय हॉल में सत्ताधारी विधायकों को शराब सेवन के खिलाफ संकल्प दिलाने को मात्र दिखावा बताते हुए आरोप लगाया कि संकल्प लिए जाने के 24 घंटे के भीतर उसी परिसर में शराब की बोतलें मिली हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या वह शराबबंदी कानून जिसका उनके पिता और राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने विरोध किया है, को रद्द करने के पक्ष में हैं तेजस्वी ने कहा, ‘‘हम पूरी तरह से नशाबंदी के पक्ष में हैं।''
 

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Rajasthan Royals

Chennai Super Kings

Match will be start at 20 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!