Bihar Election: दरभंगा में 7वीं बार जीत की आस में सिद्दीकी, 5 का दम दिखाने को बेताब संजय सरावगी

Edited By Nitika, Updated: 06 Nov, 2020 05:34 PM

siddiqui is looking forward to tie the victory for the 7th time

बिहार में 7 नवंबर को तीसरे एवं अंतिम चरण के विधानसभा चुनाव में दरभंगा जिले में राजद के कद्दावर नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी सातवीं बार जीत का सेहरा बांधने की आस में हैं। वहीं भाजपा के संजय सरावगी चुनावी पिच पर 5 का दम दिखाने की पुरजोर कोशिश में हैं।

 

पटनाः बिहार में 7 नवंबर को तीसरे एवं अंतिम चरण के विधानसभा चुनाव में दरभंगा जिले में राजद के कद्दावर नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी सातवीं बार जीत का सेहरा बांधने की आस में हैं। वहीं भाजपा के संजय सरावगी चुनावी पिच पर 5 का दम दिखाने की पुरजोर कोशिश में हैं।

पान-मखान-दही-माछ की पहचान लिए और सांस्कृतिक रूप से भी समृद्ध दरभंगा जिले की 10 सीटों में से 5 सीट कुशेश्वरस्थान (सु), गौराबौराम, बेनीपुर, अलीनगर और दरभंगा ग्रामीण में दूसरे चरण में 3 नवंबर को मतदान हो चुका है जबकि 5 अन्य सीट दरभंगा शहर, हायाघाट, बहादुरपुर, केवटी और जाले सीट पर तीसरे चरण के तहत सात नवम्बर को मतदान होना है। अलीनगर के निवर्तमान विधायक और राजद के दिग्गज नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी चुनावी पिच पर सिक्सर लगाने के बाद सातवीं बार जीत का ताज अपने सिर पर सजाने के लिए इस बार केवटी विधानसभा सीट से चुनावी समर में ताल ठोक रहे हैं।

वहीं, उन्हें चुनौती देने के लिए भाजपा ने डॉ. मुरारी मोहन झा को चुनावी रणभूमि में उतारा है। वर्ष 2015 में राजद प्रत्याशी और पूर्व केन्द्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी के पुत्र फराज फातमी ने भाजपा उम्मीदवार अशोक कुमार यादव (अभी मधुबनी सासंद) को 7830 मतों से परास्त किया था। राजद से मतभेद के बाद फराज फातमी जदयू में शामिल हो गए। फराज फातमी ने इस बार दरभंगा ग्रामीण से जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ा है। केवटी विधानसभा क्षेत्र से पिछले विधानसभा चुनाव में राजद प्रत्याशी ने जीत हासिल की थी। इस बार समीकरण अलग है। पिछली बार राजद और जदयू के बीच गठबंधन था और इस बार भाजपा और जदयू गठबंधन हो गया है। ऐसे में इस बार राजद के सामने वापसी की बड़ी चुनौती है, वहीं भाजपा भी इस बार अपनी सीट को फिर से पाने की कोशिश करेगी। केवटी विघानसभा सीट से 15 प्रत्याशी चुनावी दंगल में ताल ठोक रहे हैं।

राजद के सिद्दिकी ने वर्ष 1995, 2000, फरवरी एवं अक्टूबर 2005 में बहेड़ा विधानसभा क्षेत्र का प्रतिधित्व किया जबकि वर्ष 2010 और 2015 में वह अलीनगर विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित हुए। केवटी विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष गुलाम सरवर ने 1990, 1995 और वर्ष 2000 में जीत हासिल की है। इसके बाद पूर्व केन्द्रीय मंत्री हुक्मदेव नारायण यादव के पुत्र अशोक कुमार यादव भाजपा के टिकट पर फरवरी 2005, अक्टूबर 2005 और वर्ष 2010 में जीत हासिल की।
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!