फेरी लगाकर कपड़े बेचने वाले गरीब पिता का सपना हुआ साकार, बेटे ने UPSC में हासिल किया 45वां रैंक

Edited By Ramanjot, Updated: 26 Sep, 2021 04:23 PM

the dream of a poor father who sold clothes by hawking came true

अनिल का पैतृक घर किशनगंज जिले के ठाकुरगंज प्रखंड के खारुदह में है। अनिल के पिता बिनोद बसाक कपड़े की फेरी लगाकर गांव गांव में कपड़े बेचते थे। अनिल के पिता की माली हालत भी ठीक नहीं थी। लेकिन अनिल बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई में मेधावी थे। उन्होंने स्कॉलरशिप...

पटनाः कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं होता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो... जी हां इसी कथन को सच कर दिखाया है किशनगंज के लाल अनिल बोसाक ने, जिन्होंने घर में गरीबी होने के बावजूद यूपीएससी 2020 की परीक्षा में 45 वां स्थान हासिल किया और IAS अधिकारी बन अपने गरीब पिता का सपना साकार किया। 
PunjabKesari
बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई में थे मेधावी 
अनिल का पैतृक घर किशनगंज जिले के ठाकुरगंज प्रखंड के खारुदह में है। अनिल के पिता बिनोद बसाक कपड़े की फेरी लगाकर गांव गांव में कपड़े बेचते थे। अनिल के पिता की माली हालत भी ठीक नहीं थी। लेकिन अनिल बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई में मेधावी थे। उन्होंने स्कॉलरशिप के सहयोग से काफी हद तक आगे की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद साल 2014 में अनिल बसाक को आईआईटी दिल्ली में दाखिला मिला। वर्ष 2018 में आईआईटी दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग से आईआईटी पूरा किया। 
PunjabKesari
पढ़ाई के लिए पिता ने लिया कर्ज 
अनिल के पिता ने बताया कि शुरुवाती दिनीं में काफी शंघर्ष कर अपने बच्चों को पढ़ाया और अपने बेटे का अरमान पूरा करने के लिए वो कर्ज के बोझ में दब गए थे। लाल अनिल की सफलता से परिवार वालो की खुशी का ठिकाना नहीं है और सभी उसके मेहनत और लगन की सराहना कर रहे हैं। अनिल ने तीसरे प्रयास में यह सफलता हासिल की है। इससे पहले उन्होंने 2019 के यूपीएससी परीक्षा में भी सफलता हासिल करते हुए 616 वा रैंक हासिल किया था और उनका चयन राजस्व विभाग में हुआ था। लेकिन उनका सपना आईएएस अधिकारी बनने का था, जिसके लिए उन्होंने फिर से तैयारी शुरू कर दी।

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!